ब्रेकिंग
तेज आंधी की वजह दर्जनों पोल टूटे, चरमराई बिजली व्यवस्था, सैकड़ों गांवों की बत्ती गुल।खतरे का सबब बना जर्जर पोल पर लटकता विद्युत केबलबृजमनगंज में इंडी गठबंधन के कांग्रेस प्रत्याशी वीरेंद्र चौधरी के चुनावी कार्यालय का शुभारंभ। भाजपा वैश्य समाज को अपना बंधुआ मजदूर समझती है: ध्रुव चंद – जायसवाल महासभा गठबंधन प्रत्याशी के पक्ष में –गाजियाबाद में किशोर की मौत : घर के दरवाजे पर मिला शव, परिजन बोले- दोस्तों ने गला दबाकर की हत्याराकेश विश्वकर्मा भाजपा पार्टी में शामिल, कार्यकर्ताओं में हर्षनदी से अवैध बालू का धड़ल्ले से हो रहा खनन, विभाग मौनमलवरी स्कूल में चार दिवासीय समर कैंप का आयोजितसांसद दिनेश लालयादव निरहुआ के समर्थन में फिल्म कलाकार दीलीपलाल यादव कुशीनगर से आजमगढ़ पहुंचेसैनिक गांव की बेटी को हाइस्कूल में मिला 97 प्रतिशत अंकअनमोल मद्धेशिया ने हाई स्कूल में 95.2 प्रतिशत अंक प्राप्त कर बढ़ाया क्षेत्र का मान96 लोग के डिमांड के सापेक्ष 83 लोगों की हाज़िरी मस्टररोल में मौके पर काम करते मिले तीस मजदूर:हवन व भंडारे के साथ नौ दिवसीय रुद्र महायज्ञ का हुआ समापनमहाराजगंज फरेंदा विधानसभा के गंगाराम यादव बने सपा लोहिया वाहिनी के राष्ट्रीय सचिवचन्द्रा स्कूल में निःशुल्क मेडिकल कैम्पकिसानों को गन्ना के वैज्ञानिक रखरखाव कीट रोग नियंत्रण की दी गई जानकारी

उत्तरप्रदेशमहाराजगंज

आधुनिकता की दौड़ में सिमट रही परंपराएं, सावन में न दिख रहे झूले और न ही सुनाई दे रही कजरी परंपरा व संस्कृति को बचाने में गांव की भूमिका महत्वपूर्ण

फरेंदा,महराजगंज सावन का जिक्र आते ही दिलो-दिमाग में रिमझिम फुहार ,शीतल मंद हवा और पेड़ की डाल पर पड़ा झूला झूलती युवतियां और बच्चे । साथ ही मधुर स्वरों में कजरी के बोल मगर यह सब अब बीते जमाने की बात हो गई है ।शहर की बात छोड़िए अब तो गांव में भी सावन के महीने में ऐसा दृश्य दिखना दुर्लभ हो गया है।सावन महीने का मौसम हर किसी को अपने तरफ आकर्षित कर लेता है। चारों तरफ हरियाली, ठंडी-ठंडी बयार और बगीचों में पेड़ों पर बनाए गए झूले अपनी ओर खींच लेते हैं। क्षेत्र के अधिकांश बाग बगीचों में नव युवतियों व महिलाओं द्वारा पेड़ों पर झूला डाला गया होता था। जहां वह झूला झूलते व कजरी गाते नजर आती थी। झूलो पर महिलाओं द्वारा गाए गीत सावन का महीना, झुलावे चित चोर, धीरे झूलो राधे पवन करे शोर। मनवा घबराये मोरा बहे पूरवैया, झूला डाला है नीचे कदम्ब की छैयां। झालू झूले रे कदम की डाली जैसी अनेक गीतों से वातावरण गूंजायमान हो जाया करता था। वहीं कुछ युवतियां अपने बारी का इंतजार करने के साथ महिलाओं द्वारा झूले पर गाए जा रहे गीत पर सुर से सुर मिलाती थी। बाग की हरियाली व महिलाओं का मधुर स्वर लोगों का ध्यान आकर्षण कर लेता था। इस दौरान गाये जाने वाले गीत मन को सुकून देने वाला होता था। महिलाओं और युवतियों ने बताया कि सावन माह से प्रेम बढ़ाने के साथ प्रकृति के निकट जाने व उसकी हरियाली बनाए रखने की प्रेरणा मिलती है। गांव की बुजुर्ग महिलाओं से बात करने पर उन्होंने बताया कि सावन माह में कजरी की अलग पहचान होती थी लेकिन सावन का तीसरा सोमवार भी बीत गया अब मैं कहीं पर झूला दिखाई देता है ना कहीं कजरी गीतों की गूंज सुनाई देती है अपनी परंपराओं को लोग भूलते जा रहे हैं समाज में तमाम विकृतियां उत्पन्न हो रही हैं सावन में काली घटाओं के बीच गाए जाने वाले इस राग पर आधुनिकता के काले बादल छा गए हैं। गांव की बुजुर्ग महिला रूपा ने बताया की सावन के महीने में गांव की बेटियां अपने मायके आती थी। बारिश के बाद हल्की हल्की बूदों के बीच ही घर से निकल कर झूले झूलती थी। इस दौरान सखियों को सुख-दुख बांटने का अवसर मिलता था लड़कियां साथ बैठकर मेहंदी लगाती थी बच्चों को भी झूले पढ़ने का इंतजार होता था। वहीं अब यह सारी बातें गांवों में बीते दिनों के किस्से कहानियां बनती नजर आ रही है। हरियाली तीज की परंपरा धीरे धीरे कम होती जा रही है और इसी के साथ उस दौरान गाए जाने वाले गीत भी। सावन महीने के बारिश का अंदाज ही अलग हुआ करता है। घंटों लगातार रिमझिम बारिश की फुहार अब नहीं होती हैं। अब तेज बारिश होती है और फिर थम जाती है इसका प्रमुख कारण जलवायु परिवर्तन है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!