ब्रेकिंग
जनपद के कलेक्ट्रेट सभागार सहित सभी विधानसभा क्षेत्रों में ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी का आयोजन सम्पन्नविधायक व उपजिलाधिकारी ने किया 50 बेड हॉस्पिटल का औचक निरीक्षण*जनप्रतिनिधियों ने लाइव देखा ग्राउंड ब्रेकिंग सेरेमनी*अयोध्या शूटिंग चैंपियनशिप में प्रियांशु ने जीता पदक, बधाइयों का लगा तांता*चेयरमैन प्रतिनिधि ने अस्थाई पुल का निर्माण कार्य शुरू कराया**उनवल ने डड़वा को हराकर जीता फाइनल मैच*चार पहिया वाहन की ठोकर से मोटरसाईकिल सवार की दर्दनाक मौत।डांसिंग एक प्रतिभा के साथ योग का भी माध्यम,अमित अंजनबृजमनगंज पुलिस की अवैध शराब के विरुद्ध बड़ी कारवाई, दो शराब कारोबारियों को दो सौ लीटर अवैध शराब के साथ पकडा,खोई हुई मोबाइल को पुलिस ने दो घण्टे में बरामद कर लौटाया।जनपद के विकास में एक बड़ी उपलब्धि अत्याधुनिक ऑडिटोरियम बनेगा वित्तीय स्वीकृति शासन द्वारा मंजूरजनपद मे भारत नेपाल मैत्री महोत्सवआज से शुरूमार्ग दुर्घटना में दो गंभीर रूप से घायल, रेफरगुरू की सीख व आशीर्वाद ही प्रगति का माध्यम: बजरंग बहादुर सिंहथाना समाधान दिवस पर आए पांच मामलों में चार का निस्तारण

उत्तरप्रदेशमहाराजगंज

रोहिन नदी की धारा अपने उफान पर, मानसून के दस्तक के बाद बढा़ बाढ़ का खतरा ।

रोहिन नदी के तटबंध की हालत काफी दयनीय ,विभागीय तैयारी नाकाफी


लक्ष्मीपुर महराजगंज
रोहिन नदी बांध की मरम्मत के नाम पर बाढ़ खंड हर साल लाखों रुपये खर्च करता है लेकिन तटबंध की जर्जर हालत से यह साबित होता है कि यहां पर मरम्मत के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति ही की गई है। इसकी मरम्मत का काम बाढ़ खंड के अधिकारी तभी शुरू कराते हैं जब बरसात का मौसम अपने शबाब पर होता है। जिससे आसानी से मिट्टी डाल कर कागजों में भारी-भरकम बजट खपाया जा सके। पिछले वर्ष आयी बाढ़ में खूब तबाही हुई थी। हर साल बरसात के मौसम में आने वाली तबाही से निपटने के लिए शासन स्तर पर व्यापक इंतजाम किए जाते हैं लेकिन मजबूत निगरानी तंत्र के अभाव में सारे इंतजाम सिर्फ कागजों में ही सिमट कर रह जाते हैं।

रोहिन बाढ़ से पूर्व क्यों नहीं करते इंतजाम
ग्रामीणों का कहना है कि जो इंतजाम बाढ़ आने पर किया जाता है वह इंतजाम यदि पहले कर दिया जाए तो न तो क्षेत्र में दहशत फैलेगी और न ही बाढ़ रोकने के नाम पर धन की बर्बादी होगी। पहले बंधा बचाने के नाम खर्च होता है उसके बाद तटबंध कटने पर बाढ़ पीड़ितों की मदद के नाम पर धन बर्बाद होता है। थोड़ी सावधानी बरती जाए तो यह बर्बादी रोकी जा सकती है। बरसात के समय कभी-कभार स्थिति भयावह होने पर बाढ़ खंड के अधिकारी मिट्टी डाल कर अपने कार्य की इतिश्री कर लेते हैं। अब बरसात का मौसम काफी करीब है तो इस तटबंध से सुरक्षित रहने वाले ख़ालिकगढ़, बीरबल टोला, कोइरी तोला, मठिया ईदू, रजापुर तेनुअहिया, रानीपुर आदि गांव के ग्रामीणों के रातों की नींद उड़ गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!