ब्रेकिंग
पीजी कॉलेज में नियंता मंडल की बैठक परिचय पत्र और ड्रेस कोड में ही मिलेगा प्रवेशयोगीराज में भाई की हत्या के मामले में न्याय की आस लगाए दर-दर भटक रहा रवि“हरा भरा हो गीडा अपना” यही है केयान इंडस्ट्रीज का सपनाविदेश कमाने गए पति पर खर्च न देने का पत्नी ने लगाया आरोप।चार दुकानों का ताला तोड़ चोरी से क्षेत्र में मचा हड़कंप।एसपी ने बृजमनगंज थाना का किया औचक निरीक्षण, दिए आवश्यक निर्देश।नीजी अस्पताल मे प्रसव के दौरान महिला की मौत संचालक फरारपूर्व चेयरमैन व ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि ने मुख्यमंत्री से भेंट कर विकास कार्यों पर की चर्चाडिजिटल भारत के विकास में टैबलेट की भूमिका महत्वपूर्ण: जयमंगलपीजी कॉलेज में कक्षाएं 18 जुलाई से होगी शुरू218 छात्रों को स्मार्टफोन वितरित,स्मार्ट फोन पाकर बच्चो के खिले चेहरेएसडीएम व तहसीलदार फरेंदा ने बृजमनगंज क्षेत्र क्षेत्र में बाढ़ से प्रभावित गांव, और बंधा का किया निरीक्षण।नेपाल नदी में गिरी दो बसें सात भारतीय की मौत 60 लापताअवैध रूप भारत में घुसपैठ करते जर्मनी नागरिक गिरफ्तारमोहर्रम पर्व को लेकर थानेदार ने ताजियादारों के संग की बैठक।

उत्तरप्रदेशमहाराजगंज

महज कागजों तक सीमित रह गया व्यक्तिगत शौचालय स्वच्छ भारत मिशन के नाम पर करोडों का घोटाला

–लक्ष्मीपुर ब्लॉक के 96 ग्राम पंचायतों में जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारियों ने बजाया शौच मुक्त का डमरू


लक्ष्मीपुर/महराजगंजस्वच्छ भारत मिशन के तहत सरकार की कोशिश रही कि खुले में शौच से हमारी बहू बेटी माताएं समेत बुजुर्गों को निजात मिले। लेकिन भ्रष्टाचार की वजह से यह योजना पूरी तरह सफल नहीं हो पाया महराजगंज जनपद के बहुचर्चित लक्ष्मीपुर विकास खंड में व्यक्तिगत शौचालय निर्माण में करोड़ों रुपए का घोटाला सामने छनकर आया है। व्यक्तिगत शौचालय निर्माण के लिए आए पैसे से ज्यादातर शौचालय या तो बने नहीं, और जो बनाए भी गए वो मानकों के अनुरूप नहीं हैं। ऐसे में ग्रामीण खुले में शौच करने को मजबूर हैं। सरकार हर घर शौचालय पर जोर दमखम के साथ ताल ठोक रही है। लक्ष्मीपुर ब्लॉक को ओपन डेफिकेशन फ्री (ओडीएफ) कराने पर बकायद अभियान चलाया गया। स्वच्छ भारत मिशन के लिए सरकार की तरफ से भरपूर बजट भी दिया गया था। लेकिन लक्ष्मीपुर विकास खंड में इस अभियान में जमकर घोटाला देखने को मिला है। यहां के लक्ष्मीपुर विकास खंड में बिना शौचालय बनवाए ही शौचालय का पैसा पूर्व ग्राम प्रधान और सचिव की मिलीभगत से निकाल लिया गया। वित्तीय वर्ष 2016-2017 से वित्तीय वर्ष 2020-2021 में जमकर घोटाले हुए हैं। जिसका आंकड़ा लगा पाना थोड़ा मुश्किल है। पूर्व प्रधान सचिव सहित एडीओ पंचायत की साठगाँठ में व्यक्तिगत शौचालयों का आवंटन किया गया। और ओडीएफ सिर्फ कागज में दिखाया गया। जब इसकी हकीकत देखी गई तो धरातल पर शौचालय गायब मिले। जबकि सरकार के खजाने से करोड़ों रुपये खर्च भी हो गए। बावजूद गाँव की बहू बेटी व माताएं समेत बुजुर्गों को ठंडी गर्मी बरसात में सुबह शाम खेत एवं सड़क की राह देखनी पड़ती है। इस संबंध में खंड विकास अधिकारी अमित मिश्रा का कहना है, कि पूर्व में हुए धांधली की कड़ी जाँच की जायेगी साथ ही दोषी पाये जाने पर कड़ी कार्रवाई भी की जायेगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!