ब्रेकिंग
पीजी कॉलेज में नियंता मंडल की बैठक परिचय पत्र और ड्रेस कोड में ही मिलेगा प्रवेशयोगीराज में भाई की हत्या के मामले में न्याय की आस लगाए दर-दर भटक रहा रवि“हरा भरा हो गीडा अपना” यही है केयान इंडस्ट्रीज का सपनाविदेश कमाने गए पति पर खर्च न देने का पत्नी ने लगाया आरोप।चार दुकानों का ताला तोड़ चोरी से क्षेत्र में मचा हड़कंप।एसपी ने बृजमनगंज थाना का किया औचक निरीक्षण, दिए आवश्यक निर्देश।नीजी अस्पताल मे प्रसव के दौरान महिला की मौत संचालक फरारपूर्व चेयरमैन व ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि ने मुख्यमंत्री से भेंट कर विकास कार्यों पर की चर्चाडिजिटल भारत के विकास में टैबलेट की भूमिका महत्वपूर्ण: जयमंगलपीजी कॉलेज में कक्षाएं 18 जुलाई से होगी शुरू218 छात्रों को स्मार्टफोन वितरित,स्मार्ट फोन पाकर बच्चो के खिले चेहरेएसडीएम व तहसीलदार फरेंदा ने बृजमनगंज क्षेत्र क्षेत्र में बाढ़ से प्रभावित गांव, और बंधा का किया निरीक्षण।नेपाल नदी में गिरी दो बसें सात भारतीय की मौत 60 लापताअवैध रूप भारत में घुसपैठ करते जर्मनी नागरिक गिरफ्तारमोहर्रम पर्व को लेकर थानेदार ने ताजियादारों के संग की बैठक।

उत्तरप्रदेशमहाराजगंज

छठ पर्व पर महिलाओं ने दिया संध्या अर्घ्य

लछमीपुर/महराजगंज छठ पर्व का तीसरा दिन जिसे संध्या अर्घ्य के नाम से जाना जाता है, कार्तिक मास के शुक्ल षष्ठी को मनाया जाता है। पुरे दिन सभी लोग मिलकर पूजा की तैयारिया करते है। छठ पूजा के लिए विशेष प्रसाद जैसे ठेकुआ, चावल के लड्डू जिसे कचवनिया भी कहा जाता है, बनाया जाता है । छठ पूजा के लिए एक बांस की बनी हुयी टोकरी जिसे दउरा कहते है में पूजा के प्रसाद,फल डालकर देवकारी में रख दिया जाता है। वहां पूजा अर्चना करने के बाद शाम को एक सूप में नारियल,पांच प्रकार के फल,और पूजा का अन्य सामान लेकर दउरा में रख कर घर का पुरुष अपने हाथो से उठाकर छठ घाट पर ले जाता है। यह अपवित्र न हो इसलिए इसे सर के ऊपर की तरफ रखते है। छठ घाट की तरफ जाते हुए रास्ते में प्रायः महिलाये छठ का गीत गाते हुए जाती है।नदी या तालाब के किनारे जाकर महिलाये घर के किसी सदस्य द्वारा बनाये गए चबूतरे पर बैठती है। नदी से मिटटी निकाल कर छठ माता का जो चौरा बना रहता है उस पर पूजा का सारा सामान रखकर नारियल चढाते है और दीप जलाते है। सूर्यास्त से कुछ समय पहले सूर्य देव की पूजा का सारा सामान लेकर घुटने भर पानी में जाकर खड़े हो जाते है और डूबते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देकर पांच बार परिक्रमा करती है। सामग्रियों में, व्रतियों द्वारा स्वनिर्मित गेहूं के आटे से निर्मित ‘ठेकुआ’ सम्मिलित होते हैं। यह ठेकुआ इसलिए कहलाता है क्योंकि इसे काठ के एक विशेष प्रकार के डिजाइनदार फर्म पर आटे की लुगधी को ठोकर बनाया जाता है। उपरोक्त पकवान के अतिरिक्त कार्तिक मास में खेतों में उपजे सभी नए कन्द-मूल, फलसब्जी, मसाले व अन्नादि यथा गन्ना, ओल, हल्दी, नारियल, नींबू(बड़ा), पके केले आदि चढ़ाए जाते हैं। ये सभी वस्तुएं साबूत ही अर्पित होते हैं। इसके अतिरिक्त दीप जलाने हेतु,नए दीपक,नई बत्तियाँ व घी ले जाकर घाट पर दीपक जलाते हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण अन्न जो है वह है कुसही केराव के दानें हैं जो टोकरे में लाए तो जाते हैं पर सांध्य अर्घ्य में सूरजदेव को अर्पित नहीं किए जाते। इन्हें टोकरे में कल सुबह उगते सूर्य को अर्पण करने हेतु सुरक्षित रख दिया जाता है। बहुत सारे लोग घाट पर रात भर ठहरते है वही कुछ लोग छठ का गीत गाते हुए सारा सामान लेकर घर आ जाते है और उसे देवकरी में रख देते है । 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!