ब्रेकिंग
एसडीएम व तहसीलदार फरेंदा ने बृजमनगंज क्षेत्र क्षेत्र में बाढ़ से प्रभावित गांव, और बंधा का किया निरीक्षण।नेपाल नदी में गिरी दो बसें सात भारतीय की मौत 60 लापताअवैध रूप भारत में घुसपैठ करते जर्मनी नागरिक गिरफ्तारमोहर्रम पर्व को लेकर थानेदार ने ताजियादारों के संग की बैठक।जनपद को मेडिकल कालेज का मिला सौग़ात अब 150 एमबीबीएस सीटो पर केएमसी में होगा दाखिलामध्यदेशीय वैश्य महासभा उत्तर प्रदेश के बाबा गणिनाथ जी भक्त मंडल का प्रदेश के संयोजक बने सत्यप्रकाश मद्धेशियापंजाब में हत्या कर, शव घर भेजा मामा के बेटों की करतूत,परिजनों का आरोपमनरेगा में भ्रष्टाचार, पानी से भरी हुई पोखरी का हो रहा है सुंदरी करण का कार्यथम नहीं रहा है मनरेगा में भ्रष्टाचारों का सिलसिला ड्रेन की पुलिया बंद किए जाने पर तीन गांव के किसानों की फसल हुई बर्बाद प्रशासन की मदद से बंद की गई पुलिया को खुलवायाविधायक फरेंदा वीरेंद्र चौधरी ने पौधारोपण कर दिया पर्यावरण सुरक्षा का संदेश।एमआरएफ सेंटर का निर्माण कार्य शुरू होते ग्रामीणों ने किया विरोध, तहसीलदार और ई.ओ ने किया राजी।सड़क किनारे कूड़ा गिराने से राह चलने में दुश्वारीआगामी पर्व मोहर्रम को लेकर तहसीलदार की अध्यक्षता में पीस कमेटी की बैठक सम्पन्न।ढ़ोल नगाड़े गाजे बाजे और फुल माला के साथ केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री का हुआ स्वागत

कुशीनगर

रामकोला स्वास्थ्य केंद्र पर दर-दर भटकती रही महिला, डॉक्टर लापता लेकिन किसी ने डॉक्टर का पता नहीं बताया

ओम प्रकाश यादव,रामकोला, कुशीनगर।आज दोपहर में 1:00 बजे से रामकोला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर एक महिला अपनी माता जी का इलाज कराने के लिए रामकोला अस्पताल पहुंची जिसका नाम शीला देवी है वह अस्पताल में डॉक्टर ए के गुप्ता से मिलने के लिए उन्हें ढूंढ रही थी हर जगह गई लेकिन किसी ने भी यहां तक कि अस्पताल के कर्मचारियों ने भी उसे ए के गुप्ता का सही पता उनके केबिन तक नहीं पहुंचाया, अधिक समय तक घूमते रही जब तक वह ए के गुप्ता के केविन तक पहुंची उसके पहले ही डॉक्टर एके गुप्ता केविन से निकल कर जा चुके थे, इधर वह जब पर्ची काउंटर पर पहुँची तो पर्ची काउंटर भी बंद हो चुका था अब प्रश्न उठता है कि जब इतनी दूर से 1:00 बजे करीब में यदि कोई महिला अस्पताल पहुंची हो तो क्या उसका इलाज नहीं होना चाहिए? क्या अस्पताल की ऐसी लापरवाही ठीक है? कम से कम इस सामुदायिक रामकोला स्वास्थ्य केंद्र में ऐसा कोई नहीं है सही पार्मश देने वाला जिसमें पांच पांच डॉक्टर एक साथ बैठते हैं और और इमरजेंसी खाली रहती है और प्राइवेट रूम भरे रहते हैं लोग बाहर से काफी महंगा दवा लिखा जाता है जो कि 800और-1000 से कम का नहीं होता है गरीब आदमी इतना पैसा कहां से लाएगा इतने बड़े अस्पताल में कोई महिला या कोई बुजुर्ग अगर बिना इलाज किए वापस लौट जाता है तो प्रश्न चिह्न उठता है रामकोला प्रशासन पर और यहां की स्वास्थ्य व्यवस्था पर, जनता के टैक्स से सरकार इन डॉक्टरों को सैलरी दे रही है पूरी व्यवस्था दे रही है उसके बाद भी समय पूरा होने से पहले ही डॉ अपना सरकारी केविन छोड़कर प्राइवेट की मरीज देखने चले जा रहे हैं, आखिर कब तक लापरवाही होता रहेगा जनता दर-दर भटक रही है घटना पर उचित कार्रवाई करे सीएमओ साहब नहीं हुई तो ऐसे ही घटनाएं होती रहेंगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!