ब्रेकिंग
नाव द्वारा नदी से अवैध बालू का धड़ल्ले से हो रहा है खनन, विभाग मौनशौचालय को लेकर हुआं विवाद तो सिंदूरिया थाने की पुलिस ने पात्र के खिलाफ लिखा मुकदमापत्रकार रोहित शुक्ल के जन्मदिन पर बधाईयों की लगी तांताकेएम अग्रवाल की रचनाधर्मिता अनुकरणीय: प्रो. जनार्दनयोग से होगा जीवन शैली में आवश्यक बदलाव: डॉ अजय पीजी कॉलेज में योग सप्ताह प्रारंभनगर अध्यक्ष द्वारा दिए गए नोटिस को अधिशासी अधिकारी बताती है प्रेम पत्र, उकसाने पर पंचायत कर्मियों ने दिया धरना, सड़कों पर बिखेरा कूड़ाउत्कर्ष ने एआईआर 319 रैंक हासिल कर किया सिटी टॉपकमलेश पासवान को केंद्र सरकार में मंत्री बनाए जाने पर फूटे पटाखे, बटी मिठाईयां*गोरखपुर स्थित एक सेमिनार में गरजे प्रयागराज के लाल कुलदीप पाण्डेयतेरह सूत्रीय मांगों को लेकर प्रधानों ने सौंपा ज्ञापनघुघली बुजुर्ग में प्रधानी चलाने को लेकर दो पक्षों में चला आ रहा है विवादशम्स तबरेज का नाम ऑल इंडिया नीट परीक्षा में चयनगठबंधन नहीं तोड़ पाया भाजपा का किला,सातवी बार पंकज चौधरी के सिर बंधा जीत का सेहरा,हादसा: पिकअप की ठोकर से एक किशोर सहित दो की दर्दनाक मौत, गांव में छाया मातमआकर्षक झांकियों के बीच मनाई जाएगी शनि जयंती

महाराजगंज

डीएम ने किया राजकीय रेशम फॉर्म डोगा का निरीक्षण,

महराजगंज, जिलाधिकारी श्री सत्येंद्र कुमार द्वारा राजकीय रेशम फॉर्म डोगा का निरीक्षण किया गया। सहायक निदेशक रेशम महाराजगंज द्वारा अवगत कराया गया कि जनपद में कुल 7 राजकीय रेशम फॉर्म हैं, जिसका कुल रकबा 62.8 एकड़ है, जिसमें लगभग 59 एकड़ क्षेत्र वृक्षारोपित हैं। सहायक निदेशक द्वारा जिलाधिकारी महोदय को सूचित किया गया वित्तीय वर्ष 2021-22 में छः व्यवसायिक व छः बीजू फसल का कीट पालन किया जाता है। एक फॉर्म पर 200 से 500 किग्रा फसल पैदा किया जाता है। उन्होंने बताया पिछले वर्ष 214500 डीएफएल से लगभग 111600 किग्रा कोया उत्पादन किया गया।जिलाधिकारी महोदय द्वारा उपस्थित कुछ किसानों से भी बात की गई। श्रीमती पार्वती द्वारा बताया गया कि लगभग 50 डीएफएलएस  अंडों से 15-20 किग्रा कीट का उत्पादन करते हैं, जिससे 15 से 20 दिनों में लगभग ₹6000 की आमदनी हो जाती है। उन्होंने बताया कि पूरे वर्ष में  लगभग 40000/- से 50000/- रुपये की आय होती है। किसान  पूजा ने बताया कि उनके द्वारा भी साल भर में  50000-60000/- की आय प्राप्त कर ली जाती है। एक अन्य किसान विश्वनाथ द्वारा रेशम कीट पालन के माध्यम से  सालाना ₹ 30000/- से 40000/- आमदनी की बात जिलाधिकारी को बतायी गयी। जिलाधिकारी महोदय ने किसानों को रेशम कीट पालन के लाभ बताते हुए एफपीओ बनाकर रेशमकीट पालन का सुझाव दिया, ताकि वे समेकित रेशमकीट पालन द्वारा अतिरिक्त आय प्राप्त कर सकें!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!