ब्रेकिंग
पी पी ए के प्रदेश अध्यक्ष बने चंद्रभान तिवारी तो महासचिव बने उमाशंकर शुक्लानाव द्वारा नदी से अवैध बालू का धड़ल्ले से हो रहा है खनन, विभाग मौनशौचालय को लेकर हुआं विवाद तो सिंदूरिया थाने की पुलिस ने पात्र के खिलाफ लिखा मुकदमापत्रकार रोहित शुक्ल के जन्मदिन पर बधाईयों की लगी तांताकेएम अग्रवाल की रचनाधर्मिता अनुकरणीय: प्रो. जनार्दनयोग से होगा जीवन शैली में आवश्यक बदलाव: डॉ अजय पीजी कॉलेज में योग सप्ताह प्रारंभनगर अध्यक्ष द्वारा दिए गए नोटिस को अधिशासी अधिकारी बताती है प्रेम पत्र, उकसाने पर पंचायत कर्मियों ने दिया धरना, सड़कों पर बिखेरा कूड़ाउत्कर्ष ने एआईआर 319 रैंक हासिल कर किया सिटी टॉपकमलेश पासवान को केंद्र सरकार में मंत्री बनाए जाने पर फूटे पटाखे, बटी मिठाईयां*गोरखपुर स्थित एक सेमिनार में गरजे प्रयागराज के लाल कुलदीप पाण्डेयतेरह सूत्रीय मांगों को लेकर प्रधानों ने सौंपा ज्ञापनघुघली बुजुर्ग में प्रधानी चलाने को लेकर दो पक्षों में चला आ रहा है विवादशम्स तबरेज का नाम ऑल इंडिया नीट परीक्षा में चयनगठबंधन नहीं तोड़ पाया भाजपा का किला,सातवी बार पंकज चौधरी के सिर बंधा जीत का सेहरा,हादसा: पिकअप की ठोकर से एक किशोर सहित दो की दर्दनाक मौत, गांव में छाया मातम

उत्तरप्रदेशगोरखपुर

जेल में भी पोषण की अलख जगा रहीं आंगनबाड़ी कार्यकर्ता निशा,

पांच साल से गर्भवती, धात्री व बच्चों को पहुंचाया जा रहा है पोषाहार

शहरी बाल विकास परियोजना कार्यालय की अनूठी पहल

गोरखपुर, 12 जनवरी 2022

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता निशा मल्ल जेल में बंद गर्भवती, धात्री महिलाओं और बच्चों तक पोषण का संदेश पहुंचा रही हैं । वह समय-समय पर आने वाला पोषाहार जेल में पहुंचाती हैं और परामर्श भी देती हैं । शहरी बाल विकास परियोजना कार्यालय से पांच साल पहले शुरू हुई इस पहल के तहत जेल में भी पोषण की रोशनी पहुंच रही है ।

निशा (40) ने करीब 10 साल पहले समेकित बाल विकास एवं पुष्टाहार विभाग में काम शुरू किया था । वह बताती हैं कि जब शहरी बाल विकास परियोजना अधिकारी प्रदीप कुमार श्रीवास्तव ने कार्यभार संभाला तभी से जेल में भी पोषाहार पहुंचाने की पहल हुई । शुरूआती दौर में चुनौतियां आईं । जेल के भीतर के प्रोटोकॉल के कारण पहले जेल के अधिकारी भी हिचकिचाते थे लेकिन धीरे-धीरे सभी ने पहचान लिया और अब कोई रोकटोक नहीं रहती । केवल फोटो खींचने की मनाही है। मोबाइल बाहर जमा हो जाता है । वह बताती हैं कि जेल में इस समय दो गर्भवती, एक धात्री और 10 छोटे बच्चे हैं। यह संख्या हर माह बदलती रहती है क्योंकि कुछ लोग रिहा भी हो जाते हैं ।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता निशा मल्ल का कहना है कि गर्भवती, धात्री महिलाओं और शून्य से तीन साल के बच्चों के लिए दाल, दलिया और रिफाइंड दिया जाता है, जबकि तीन से छह साल तक बच्चों के लिए सिर्फ दाल और दलिया दी जाती है । महिलाओं को समझाया जाता कि इस सामग्री की मदद से पूड़ी, हलुआ और अन्य पौष्टिक व्यंजन बना कर खाए जा सकते हैं । धात्री महिलाओं को स्तनपान के साथ पूरक आहार की जानकारी दी जाती है। उन्हें बताया जाता है कि छह माह तक शिशु को सिर्फ स्तनपान करवाना है और इसके बाद दो वर्ष तक स्तनपान के साथ-साथ पूरक आहार भी देना है। गर्भवती को गर्भावस्था में पोषण के महत्व की जानकारी दी जाती है और यह भी बताया जाता है कि बच्चे को पैदा होने पर यथाशीघ्र स्तनपान करवाना है ।

शासन से आया दिशा-निर्देश

शहरी बाल विकास परियोजना अधिकारी प्रदीप कुमार श्रीवास्तव का कहना है कि शासन से इस संबंध में दिशा-निर्देश आया था । पत्र मिलने के बाद पोषहार की उपलब्धता के अनुसार जेल में उसकी आपूर्ति की जाती है। जिला कार्यक्रम अधिकारी हेमंत सिंह की देखरेख में पोषाहार वितरण कार्यक्रम सुचारू तौर पर चल रहा है ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: Content is protected !!